News





        शासकीय शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय (सी.टी.ई.) शंकर नगर रायपुर (छ.ग.) के सभागार में दिनांक 21.06.2018 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस आयोजित किया गया। इस अवसर पर योग परिचर्चा, योगाभ्यास, प्राणायाम एवं विभिन्न योगासन प्रतियोगिताओं के पारितोषिक वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया गया।
प्रातः 06ः30 बजे, महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. योगेश शिवहरेजी, श्री आर.सी. साहू (से.नि. संयुक्त संचालक एस.सी.ई.आर.टी.) श्री एस.के. हुसैन (से.नि. सहा.प्राध्यापक) पने दीप प्रज्जवलन कर कार्यक्रम की शुरूआत की। कार्यक्रम के मास्टर ट्रेनर्स योग विशेषज्ञ श्री दीपक पटनायक थे। उन्होने योग क्या है, योग करने से लाभ, महत्व एवं नियम बताये।
         प्रातः 07ः00 बजे ओम के उच्चारण के साथ प्रोटोकाल के अनुसार प्राणासन, चालन क्रियाये, ग्रीवा चालन, कन्ध चालन, कटिचालन, घुटना चालन, ताड़ासन, ध्रुवासन, पादहस्तासन, वकासन, उत्तानपादासन, अर्द्ध हलासन, मकरासन आदि का योगाभ्यास कराया तथा प्राणायाम, अनुलोम-विलोम, शीतली, शीतकारी, भ्रामरी प्राणायाम आदि का अभ्यास कराया। सामूहिक योगाभ्यास में महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. योगेश शिवहरे, समस्त महाविद्यालयीन स्टाॅफ, गणमान्य नागरिक, पालकगण, एलुमिनाई सदस्यगण, बी.एड. एवं एम.एड. के छात्राध्यापक सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

             योगाभ्यास के पश्चात् पुरूस्कार वितरण का आयोजन किया गया।

           प्राचार्य डाॅ. योगेश शिवहरे जी ने योग का महत्व बताया साथ ही छात्राध्यापको से कहा कि शरीर के साथ-साथ मन भी स्वस्थ्य रहे और आप अपने विद्यालय में जाकर अपने विद्यार्थियों को भी योग के लिये प्रेरित करेंगे तथा स्वस्थ्य जीवन शैली अपनायेंगे। महाविद्यालय में शून्य कालखण्ड में योग शामिल है जिसमें प्रतिदिन एक घण्टा निर्धारित हैं।

कार्यक्रम का सफल संचालन श्री एस.आर. महाड़िक ने किया तथा समन्वयक श्रीमती मधु दानी ने सभी का आभार व्यक्त किया।




                   अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर दिनांक 19.06.2018, दिन मंगलवार को शासकीय शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय (सी.टी.ई.) शंकरनगर रायपुर में योग प्रतियोगिता का आयोजतन हुआ। इस प्रतियोगिता में युगल ध्रवासान, सूर्य नमस्कार, एकल ध्रुवासन, हलासन, धनुरासन आदि प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।
                   प्रतियोगिता कि तहत प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागियो को पुरूस्कार सह प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। इस अवसर पर श्री पी.सी. राव सहायक प्राध्यापक ने विजेताओ को बधाई देते हुये दैनिक जीवन में योग के महत्व पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम का संचालन श्रीमति मधु दानी ने किया। प्रतियोगिता के निर्णायक मण्डल में डाईट रायपुर की प्रशिक्षक श्रीमती ज्योति, योग प्रशिक्षक दीपक पटनायक व योगीराम साहू शामिल हुये।




शासकीय शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय में शनिवार को पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन किया गया. कार्यक्रम मुख्य अतिथि के रूप में आईएएस डॉ. आलोक शुक्ला और संस्था के प्राचार्य डॉ. योगेश शिवहरे की अध्यक्षता में संपन्न हुआ. इस दौरान छात्राध्यापकों की ओर से सरस्वती वंदना एवं स्वागत गान प्रस्तुत किया गया.




शास.शि.शिक्षा महा.शंकरनगर रायपुर से बी.एड. (गैर विभागीय) प्रत्याशियों के शिक्षक के रूप में नियोजन विषयक्




दिनांक 23 मार्च 2018 को शासकीय शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय शंकरनगर रायपुर के सभागार में अनुसंधान जैसे गुढ़ विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।
उक्त कार्यशाला में डाॅ. अशोक प्रधान, विभागाध्याक्ष, मानव शास्त्र, पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर ने अपने अनुभवों को साझा करते हुए, एम.एड. प्रथम एवं द्वितीय वर्ष के छात्राध्यापको को रिसर्च की बारिकियो से अवगत कराया एवं छात्राध्यापकों से रूबरू होते हुये उन्होने बताया कि मष्तिष्क पटल पर जो वाक्यांश अंतस्थ कर जाता है, वही रिसर्च है।
अनुसंधान प्रक्रिया में 15 सोपानो का पावर प्वाइंट प्रेजेन्टेशन के माध्यम से विस्तार से चर्चा करते हुये एक अच्छे शोध में परिकल्पना, न्यादर्श और संबंधित साहित्य के महत्व को स्पष्ट किया तथा पुरानी परम्पराओं से निकल कर रिस्क होना और कुछ नवाचार करने अर्थात् बिना परिकल्पना के भी शोध किया जा सकता है, पर बल दिया साथ ही परिकल्पनाओं की पुष्टि के लिये किस प्रकार प्रारूप तैयार किया जाये जिससे शोध विधि एवं प्रविधियो के संबंध में निर्णय लिया जाय पर बिन्दुवार चर्चा की। डाॅ. अशोक प्रधान, विषय विशेषज्ञ ने महाविद्यालय के छात्राध्यापको को विश्वविद्यालय में आमंत्रित किया एवं ग्रंथालय में उपलब्ध अनुसंधान साहित्य तथा वेब रिसोर्सेस के समुचित उपयोग एवं साफटवेयर के माध्यम से आंकड़ो के विश्लेषण आदि के लिये प्रोत्साहित किया। प्रश्नोत्तरी सेक्शन में छात्राध्यापको ने अपनी समस्याओं का समाधान भी किया।
महाविद्यालय के एम.एड. विभाग के प्रमुख श्री यू.के. चक्रवर्ती (सहायक प्राध्यापक) ने रिसर्च के लिये कहा कि ‘‘रिसर्च एक सामान्य प्रक्रिया है न कि कोई हौवा‘‘ प्रायः विद्यार्थी रिसर्च को ‘हौवा‘ समझ लेते है, जिसका समाधान आवश्यक है।
कार्यशाला के आयोजक श्री आलोक शर्मा (सहायक प्राध्यापक) ने भी स्पष्ट किया कि रिसर्च में जितनी अधिक समस्या होगी उतना ही अच्छा रिसर्च का परिणाम अच्छा होगा। अतः समस्याओं से घबराना नही चाहिये बल्कि उसका ऐसा समाधान निकालना जिसमें हमारा रिसर्च समाजोपयोगी बन जाय।

 

कार्यशाला में महाविद्यालय के एम.एम प्रथम एवं द्वितीय वर्ष के छात्राध्यापको तथा समस्त अकादमिक सदस्यों की सहभागिता रही।

 






About Us

The Government College of Education is situated in the heart of the city Raipur, Capital of Chhattisgarh State. This college was established on 10th May 1956. The College is affiliated to Pt. Ravishankar Shukla University, Raipur. 17 (Seventeen) districts of Chhattisgarh are covered by this College .   Read More

Contact Us

  • Govt. College of Education
    BTI ground Shankar nagar, Raipur (C.G.)

    Telephone: +0771-2443796
    FAX: +0771-2443796
    E-mail: ctechhattisgarh@gmail.com